BREAKING NEWS:
  • Wednesday, 17 Jul, 2019
  • 9:12:17 PM

UNITED BIOTECH IS NO MORE UNITED

            All three directors of united biotech become violent, elder brother Rajeev Kumar stopped production in association with youngest brother whereas Sanjeev kumar stopped financial transaction. Reason is not clear why they are scary with each other. They started fighting since December 2018 and in the mean time pharma majors tried to resolve the issue but all 3 kumars are adamant and not ready to be united.

            Domestic and international buyers are paying huge penalty and going to be black listed forever. Buyers are searching ways out to overcome director’s fight and also searching new manufacturers. Company is losing business of 30 Cr every month but they have lost trust forever. They are neither listening of clients nor industry people. Client stayed month over month to resolve the issue but separatists are happy with their stupid ego.

            Employees are coming office everyday but they do not have work to do and they feel that they are into air conditioned jail. Kumars are neither thinking of brothers each other, employees nor clients and vendors.  We are only as strong as we are united, as weak as we are divided. We are each other's harvest; we are each other's business; we are each other's magnitude and bond. Pray for separated biotech to be united.



Responses

Related News

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकारी रखने की सरकारी प्रक्रिया में फार्मेसी काउंसिल (पीसीआई) भी भागीदार होगी। पीसीआई ने फिलहाल 300 केंद्र बनाने का फैसला किया है। ये केंद्र जिला और अन्य सरकारी अस्पतालों में बनाए जा रहे हैं। पीसीआई ने एक ऐप भी बनाया है जिसकी मदद से रोगी और डॉक्टर किसी भी दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी सरकार को दे सकते हैं।

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सामान्य अस्पतालों की सप्लाई में दवा कंपनियों की कारगुजारियां अकसर सामने आती है लेकिन अब सैन्य अस्पताल में भी दवा कंपनी का खोट सामने आया है। दवा निर्माता कंपनी ने जालंधर के सैन्य अस्पताल को जो दवा सप्लाई की थी, उसके बिल पर अंकित और दवा के बैच नंबर में अंतर है। यानि किसी और बैच नंबर की दवा सप्लाई की गई और दवा निर्माता कंपनी ने बिल दूसरे बैच नंबर का बना कर फरीदाबाद की दवा वितरक कंपनी को भेज दिया।

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

बार-बार सैंपल फेल होने पर दवा नियंत्रक प्राधिकरण ने हिमाचल के 20 दवा उद्योगों में प्रोडक्शन बैन कर दिया है जबकि आधा दर्जन उद्योग संचालकों को नोटिस जारी किए हैं। इसका कारण छह महीने के दौरा 67 दवाओं के सैंपल फेल होना बताया गयाहै। इतना ही प्राधिकरण ने ऐसे 100 उद्योगों की सूची बनाई और जांच-पड़ताल के बाद यह बड़ी कार्रवाई की है जिससे हडक़ंप मच गया है। ये उद्योग सोलन के बीबीएन, सिरमौर और कांगड़ा जिलों में संचालित है।

 पैकिंग पर दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी नहीं तो झेलनी होगी कानूनी मार

पैकिंग पर दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी नहीं तो झेलनी होगी कानूनी मार

दवा कोई भी हो यदि उसके साइड इफेक्ट के बारे में पैकिंग पर जानकारी नहीं मिली तो कंपनी को कानूनी मार झेलनी पड़ेगी। पता चला है कि सरकार ने स्वयं दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकरी हासिल करने की कवायद शुरू कर दी है।