BREAKING NEWS:
  • Tuesday, 12 Nov, 2019
  • 2:14:46 AM

लाइसेंसिंग अथॉरिटी नेहा शौरी की हत्या से लोकसभा चुनाव में पंजाब का फिर सबसे बड़ा मुद्दा बनेगा नशा

बृजेंद्र मल्होत्रा/ हंसराज मेहता
             पिछले आम चुनावों की तरह पंजाब में इस बार फिर नशा सबसे बड़े मुद्दे के रूप में उभरेगा और जोनल ड्रग लाइसेंसिंग ऑथोरिटी नेहा शौरी की हत्या के बाद यह मुद्दा अब ठीक उसी तरह सुर्खियों में आ गया, जैसे फ़िल्म उड़ता पंजाब ने पंजाब में नशे की कलई खोली थी। आगामी रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हो या कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पंजाब को नशे की बेड़ियों से मुक्ति दिलाने के दावे बिना यहां पांव नहीं पसार पाएंगे।
              चूंकि नेहा शौरी की हत्या चुनाव के पहले चरण से पूर्व हुई है, लिहाजा पंजाब प्रशासन और सरकार इसको लेकर सकते में है। अब पंजाब समेत समूचे देश का ड्रग महकमा इस घटना की घोर निंदा कर रहा है। पंजाब के रुतबेदार वरिष्ठ ड्रग अधिकारी प्रदीप मट्टू ने सवेंदना के साथ ही इसे शर्मनाक घटना करार दिया। उन्होंने कहा कि नेहा शौरी ने बलिदान दिया है और हम उनके नशा मुक्त पंजाब बनाने के सपने को किसी भी हद तक जाकर पूरा करेंगे। बता दें कि पंजाब में पिछले एक दशक से बढ़ रहे नशे के कारोबार पर लगाम लगाने वालो को अक्सर गंभीर परिणाम भुगतने पडे हैं।
               पंजाब सरकार की जेड एल ए नेहा शोरी को भी नशे पर लगाम लगाने की कीमत चुकानी पड़ी। नेहा का कसूर तो इतना ही था की उसने नशीली दवाओं पर लगाम लगाने के लिए साल 2009 में  रोपड़ के एक दवा विक्रेता की दुकान पर ड्रग इंस्पेक्टर रहते छापामारी की थी और नशीली दवा रखने के  जुल्म में दवा विक्रेता के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था। अंजाम तक पहुंचे दवा विक्रेता को सजा हुई और वो सलाखों के पीछे पहुंच गया मामला अभी न्यायालय में है कहा जा रहा है कि इसी मामले के चलते खरड़ में तैनात नेहा शोरी के कार्यालय में घुसकर गोली चलाई गई।
                पंजाब के खाद्य एवं औषधि प्रशासन कमिश्नर प्रदीप कुमार मट्टू ने कहा कि इस प्रकार की घटना से ईमानदार अधिकारियो का मनोबल न गिरे, इसके लिए सख्त कानून बनना चाहिए।
                हरियाणा के सहायक राज्य औषधि नियंत्रक ललित गोयल ने बताया कि नेहा शोरी की कार्यालय में ही हुई निर्मम हत्या के विरोध में एक अप्रैल को हरियाणा के सभी जिला मुख्यालयों पर 2 मिनट की शोक सभा के पश्चात सारा दिन काले बिल्ले लगा कर कार्य करेंगे । सीनियर ड्रग कण्ट्रोल ऑफिसर राकेश दहिया ने कहा कि पंजाब में हुई इस वारदात से पंजाब ही नही हरियाणा सहित सभी राज्यों में दहशत का माहौल बना है। दहिया ने मांग की कि केन्द्र सरकार द्वारा नेहा को मरणोपरांत सम्माननित किया जाना चाहिए ।



Responses

Related News

तो अब ड्रोन से दवाइयां और ब्लड सप्लाई करेगी सरकार

तो अब ड्रोन से दवाइयां और ब्लड सप्लाई करेगी सरकार

तेलंगाना सरकार ने हेल्थनेट ग्लोबल लिमिटेड के साथ साझा रूप से ड्रोन से दवाइयां, खून और अन्य मेडिकल सुविधाएं पहुंचाने संबंधी पायलट प्रोजेक्ट के लिए समझौता किया है। बता दें कि वल्र्ड इकोनॉमिक फोरम सेंटर ने चौथे इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन नेटवर्क के लिए घोषणा की कि तेलंगाना में मेडिसिन फ्रॉम द स्काई नामक अभिनव ड्रोन-डिलीवरी प्रोजेक्ट सिस्टम शुरू करेगा। प्रोजेक्ट में खून, टीके, मेडिकल सेम्पल्स और अंगों के लिए ड्रोन आधारित डिलीवरी का व्यापक अध्ययन होगा।

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकारी रखने की सरकारी प्रक्रिया में फार्मेसी काउंसिल (पीसीआई) भी भागीदार होगी। पीसीआई ने फिलहाल 300 केंद्र बनाने का फैसला किया है। ये केंद्र जिला और अन्य सरकारी अस्पतालों में बनाए जा रहे हैं। पीसीआई ने एक ऐप भी बनाया है जिसकी मदद से रोगी और डॉक्टर किसी भी दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी सरकार को दे सकते हैं।

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सामान्य अस्पतालों की सप्लाई में दवा कंपनियों की कारगुजारियां अकसर सामने आती है लेकिन अब सैन्य अस्पताल में भी दवा कंपनी का खोट सामने आया है। दवा निर्माता कंपनी ने जालंधर के सैन्य अस्पताल को जो दवा सप्लाई की थी, उसके बिल पर अंकित और दवा के बैच नंबर में अंतर है। यानि किसी और बैच नंबर की दवा सप्लाई की गई और दवा निर्माता कंपनी ने बिल दूसरे बैच नंबर का बना कर फरीदाबाद की दवा वितरक कंपनी को भेज दिया।

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

बार-बार सैंपल फेल होने पर दवा नियंत्रक प्राधिकरण ने हिमाचल के 20 दवा उद्योगों में प्रोडक्शन बैन कर दिया है जबकि आधा दर्जन उद्योग संचालकों को नोटिस जारी किए हैं। इसका कारण छह महीने के दौरा 67 दवाओं के सैंपल फेल होना बताया गयाहै। इतना ही प्राधिकरण ने ऐसे 100 उद्योगों की सूची बनाई और जांच-पड़ताल के बाद यह बड़ी कार्रवाई की है जिससे हडक़ंप मच गया है। ये उद्योग सोलन के बीबीएन, सिरमौर और कांगड़ा जिलों में संचालित है।