BREAKING NEWS:
  • Sunday, 25 Aug, 2019
  • 8:24:40 PM

इंडिया फार्मा 2019 में खुला राज- फार्मास्युटिकल क्षेत्र को 3 लाख करोड़ का बाजार बनाने में जुटा रसायन मंत्रालय

इंडिया फार्मा 2019 में खुला राज- फार्मास्युटिकल क्षेत्र को 3 लाख करोड़ का बाजार बनाने में जुटा रसायन मंत्रालय
 
-"इंडिया फार्मा 2019 और इंडिया मेडिकल डिवाइस" का बैंगलुरू में आयोजन
 
-भारतीय चिकित्‍सा उपकरण बाजार 2025 तक बढ़कर 50 बिलियन अमरीकी डॉलर तक पहुंचने का अनुमान: सदानंद गौड़ा
 
-सरकार भारतीय फार्मास्युटिकल क्षेत्र को 3 लाख करोड़ का बाजार बनाने में मदद करने के उपाय कर रही है : मंडाविया
 
नई दिल्ली।      केन्‍द्रीय रसायन और उर्वरक, सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्री, डीवी सदानंद गौड़ा ने कहा कि भारत उच्च गुणवत्ता वाली जन औषधियों के विनिर्माण में शीर्ष स्‍थान पर बरकरार है। सरकार का ध्यान सभी के लिए सस्‍ती स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच में सुधार लाने पर केंद्रित है। सरकार दुनिया में सबसे बड़े सरकारी वित्त पोषित स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम ‘आयुष्‍मान भारत’ में योगदान पर ध्‍यान दे रही है।  श्री गोड़ा आज बेंगलुरू में ‘फार्मास्युटिकल्स एंड मेडिकल डिवाइसेस’ के बारे में भारत के सबसे बड़े वैश्विक सम्मेलन के चौथे संस्करण के उद्घाटन के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर केंद्रीय रसायन और उर्वरक सड़क परिवहन और राजमार्ग, नौवहन राज्य मंत्री, श्री मनसुख एल मंडाविया भी उपस्थित थे।
                     इस सम्मेलन में रूस, केन्या, ब्रिटेन, मलेशिया, इंडोनेशिया, सऊदी अरब और उजबेकिस्तान सहित लगभग 30 से अधिक देशों के ड्रग नियामकों ने भाग लिया। इसके अलावा, इस आयोजन में पूरे देश के 15 राज्यों के ड्रग नियामकों की भागीदारी भी देखी गई। भारत सरकार और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों और फार्मास्युटिकल और चिकित्‍सा उपकरण क्षेत्र के उद्योग जगत के दिग्गज भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए।
                    इस कार्यक्रम का आयोजन रसायन और उर्वरक मंत्रालय के फार्मास्युटिकल्स विभाग (डीओपी) फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) के साथ मिलकर कर रहा है। 'इंडिया फार्मा 2019' का विषय है गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना और 'इंडिया मेडिकल डिवाइस 2019' का विषय है वैश्विक स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल को प्राप्‍त करने के लिए विकास को गति प्रदान करना। यह सम्‍मेलन सरकार का देश के नागरिकों को सस्‍ती गुणवत्‍ता युक्‍त स्‍वास्‍थ्‍य सेवा उपलब्‍ध कराने तथा भारतीय फार्मास्युटिकल और मेडिकल डिवाइस उद्योग को बढ़ावा देते हुए मेक इंन इंडिया को प्रोत्‍साहन देने का प्रयास है।
 
                   अपने संबोधन में श्री गौड़ा ने पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री स्‍वर्गीय अनंत कुमार को स्मरण करते हुए कहा कि उनका विजन इस सम्‍मेलन के माध्‍यम से फार्मा और चिकित्‍सा उपकरण उद्योग के सभी हित धारकों को एक मंच पर लाना तथा इस उद्योग के मुद्दों का निपटान करके बाधाओं को दूर करने के लिए नीति परिवर्तन करने में सरकार की मदद करना था। उन्‍होंने कहा कि भारत उच्च गुणवत्ता वाली जन औषधियों के विनिर्माण और आपूर्ति में अपने शीर्ष स्‍थान पर बरकरार है। सरकार के उपायों से निर्यात में सुधार होने से फार्माक्षेत्र की प्रगति हुई है। फार्मा उद्योग में निकट भविष्‍य में 15 प्रतिशत सीएजीआर की प्रगति होने की उम्‍मीद है। चिकित्‍सा उपकरण का बाजार भी 2025 तक बढ़कर 50 बिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है। अपने संबोधन ने मंडाविया ने ‘आयुष्मान भारत’ जैसी पहल के माध्यम से सस्ती स्वास्थ्य देखभाल सुनिश्चित करने के लिए सरकार द्वारा किये जा रहे उल्‍लेखनीय कार्यकी सराहना करते हुए कहा कि सरकार भारतीय फार्मास्युटिकल क्षेत्र को 3 लाख करोड़ रूपये का बाजार बनाने में मदद करने के प्रयास कर रही है। सरकार ने भारत में स्वदेशी एपीआई उद्योग के विकास को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए हैं।
                   भारत में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के प्रतिनिधि डॉ. हैंक‍ बेकेडम ने कहा कि चिकित्सा उपकरणों के विनिर्माण क्षेत्र में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों की बढ़ती भागीदारी को देखते हुए, विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन विनिर्माण मानकों के उन्‍नयन में  इस क्षेत्र को तकनीकी सहायता उपलब्‍ध करायेगा। 



Responses

Related News

तो अब ड्रोन से दवाइयां और ब्लड सप्लाई करेगी सरकार

तो अब ड्रोन से दवाइयां और ब्लड सप्लाई करेगी सरकार

तेलंगाना सरकार ने हेल्थनेट ग्लोबल लिमिटेड के साथ साझा रूप से ड्रोन से दवाइयां, खून और अन्य मेडिकल सुविधाएं पहुंचाने संबंधी पायलट प्रोजेक्ट के लिए समझौता किया है। बता दें कि वल्र्ड इकोनॉमिक फोरम सेंटर ने चौथे इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन नेटवर्क के लिए घोषणा की कि तेलंगाना में मेडिसिन फ्रॉम द स्काई नामक अभिनव ड्रोन-डिलीवरी प्रोजेक्ट सिस्टम शुरू करेगा। प्रोजेक्ट में खून, टीके, मेडिकल सेम्पल्स और अंगों के लिए ड्रोन आधारित डिलीवरी का व्यापक अध्ययन होगा।

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकारी रखने की सरकारी प्रक्रिया में फार्मेसी काउंसिल (पीसीआई) भी भागीदार होगी। पीसीआई ने फिलहाल 300 केंद्र बनाने का फैसला किया है। ये केंद्र जिला और अन्य सरकारी अस्पतालों में बनाए जा रहे हैं। पीसीआई ने एक ऐप भी बनाया है जिसकी मदद से रोगी और डॉक्टर किसी भी दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी सरकार को दे सकते हैं।

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सामान्य अस्पतालों की सप्लाई में दवा कंपनियों की कारगुजारियां अकसर सामने आती है लेकिन अब सैन्य अस्पताल में भी दवा कंपनी का खोट सामने आया है। दवा निर्माता कंपनी ने जालंधर के सैन्य अस्पताल को जो दवा सप्लाई की थी, उसके बिल पर अंकित और दवा के बैच नंबर में अंतर है। यानि किसी और बैच नंबर की दवा सप्लाई की गई और दवा निर्माता कंपनी ने बिल दूसरे बैच नंबर का बना कर फरीदाबाद की दवा वितरक कंपनी को भेज दिया।

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

बार-बार सैंपल फेल होने पर दवा नियंत्रक प्राधिकरण ने हिमाचल के 20 दवा उद्योगों में प्रोडक्शन बैन कर दिया है जबकि आधा दर्जन उद्योग संचालकों को नोटिस जारी किए हैं। इसका कारण छह महीने के दौरा 67 दवाओं के सैंपल फेल होना बताया गयाहै। इतना ही प्राधिकरण ने ऐसे 100 उद्योगों की सूची बनाई और जांच-पड़ताल के बाद यह बड़ी कार्रवाई की है जिससे हडक़ंप मच गया है। ये उद्योग सोलन के बीबीएन, सिरमौर और कांगड़ा जिलों में संचालित है।