BREAKING NEWS:
  • Saturday, 25 May, 2019
  • 12:42:49 AM

फार्मासिस्ट-केमिस्ट लाइसेंस खेल : ड्रग कंट्रोलर आहूजा ने संभाला मोर्चा

चंडीगढ़ : हरियाणा में केमिस्ट-फार्मासिस्ट के बीच किराये के लाइसेंस का खेल राष्ट्रीय स्तर पर नजर में आ गया है। फार्मासिस्टों के राष्ट्रीय संगठन ड्रग अधकारियों पर गम्भीर आरोप जड़ रहे हैं। निचले अधिकारियों की लापरवाही है या नहीं, ये तो जांच की बात है, लेकिन विभाग की किरकिरी न हो, इसके लिए हरियाणा के ड्रग कंट्रोलर नरेंद्र आहूजा "विवेक" स्वयं निगरानी कर रहे हैं। बातचीत में वह इस बात से इनकार नहीं करते कि यह खेल नहीं चल रहा, मगर इसकी जड़ें कहाँ हैं, कौन सूत्रधार है, इसका पता कर शीघ्र खुलासा करने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि उन्हें इस मामले में जानकारी जुटाने का कुछ समय चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसा मामला सामने आया तो दोषियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।  एक ही पंजीकरण पर दो-दो कारोबार होने की खबर छपने के बाद पूरे प्रदेश में हडकंप मचा हुआ है। अपनी खाल बचाने के लिए ऐसे लोग बैक डेट में त्याग पत्र देकर भ्रम की स्थिति पैदा कर रहे हैं। आकाओं के संरक्षण में चल रहे इस गोलमाल के पीछे अनेक ऐसे तथ्य छीपे हैं, जो हकीकत को उजागर कर देंगे। 
 
इस बारे में आरटीआई कार्यकर्ता विनय कुमार भारती ने कहा कि सब मिलीभगत का खेल है। इसलिए तो आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई से अधिकारी गुरेज कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक साथ दो काम करने वाले फार्मासिस्टों पर फार्मेसी प्रेक्टिस रेगुलेशन एक्ट के तहत कार्रवाई होनी चाहिए। क्योंकि कोई भी फार्मासिस्ट अपना लाइसेंस किराये पर देकर दूसरा काम कैसे कर सकता है। यह पीपीआर 2015 का उल्लंघन है। ऐसे मामले तब संज्ञान में आते हैं, निलम्बन की कार्रवाई कर फार्मेसी कोंसिंल व राज्य औषधी नियंत्रण विभाग लीपापोती भर करता है। उन्होंने कहा कि फार्मेसी नियम 1948 के सेक्शन 42 के नियम 65/15 के तहत रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट ही दवाई दे सकता है, लेकिन इन नियमों को तार तार किया जा रहा है और लाइसेंस की आड़ में ऐसे लोग दवा विक्रेता का काम करते हैं, जिन्हें किसी प्रकार का औषधी ज्ञान नहीं है।
 
हरियाणा फार्मासिस्ट संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेश सहरोत से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि फार्मासिस्ट द्वारा लाइसेंस किराये पर देना व साथ में दूसरा काम करना कानूनी जुर्म है। उन्होंने कहा कि जब फार्मासिस्ट लाइसेंस लेता है तो वह शपथ पत्र देता है कि वह कोई दूसरा काम नहीं करता। आठ घंटे अपने लाइसेंसी प्रतिष्ठान पर रोजाना गुजारेगा। यदि इन नियमों का उल्लंघन होता है तो शपथ की शर्त पूरी ना करने पर धारा 420, फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत करने पर धारा 467,468 व 471  व शपथ पत्र गलत देने पर 120बी के तहत कार्रवाई भी बनती है। यदि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने में अधिकारी उदासीनता दिखाते हैं तो उनके खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 166 के तहत कर्तव्य निर्वहन ना करने पर कार्रवाई भी बनती है। उन्होंने कहा कि यदि पूरे मामले पर गहनता से नजर डालें तो इस सारे प्रकरण में ८० प्रतिशत दोषी औषधी नियंत्रण विभाग है, जबकि 20 प्रतिशत दोष की भागीदार हरियाणा फार्र्मेसी कोंसिल भी है। जब इनसे पूछा गया कि एक पंजीकरण पर दो कारोबार करने वालों के खिलाफ पंजीकरण को समाप्त करने की अवधि क्या है तो उन्होंने कहा कि जितनी गलती अधिक होगी, उतनी सजा अधिक होगी। एक वर्ष से लेकर जीवन भर तक लाइसेंस राज्य औषधी नियंत्रण विभाग रदद कर सकता है और हरियाणा फार्मेसी कोंसिल भी त्वरित कार्रवाई कर सकती है।
 
प्रकरण चर्चाओं में आने के बाद प्रदेश के रोहतक, हिसार, भिवानी, पानीपत, करनाल, फरीदाबाद, गुडगाँव  व अन्य जिलो में अनेक ऐसे लाइसेंस धारकों ने बैक डेट में त्याग पत्र दे दिए हैं जो एक साथ दो काम करते थे। भिवानी में तो चर्चा एक निजी नर्सिंग होम में तैनात चिकित्सक की भी है, जिन्होंने वर्षों से अपना लाइसेंस एक दवा दुकानदार को दे रखा था और उन्होंने अब मामला गंभीर होता देख त्याग पत्र दे दिया है। ऐसे एक नहीं अनेक मामले हैं।
 



Responses

Related News

UNITED BIOTECH IS NO MORE UNITED

UNITED BIOTECH IS NO MORE UNITED

All three directors of united biotech become violent, elder brother Rajeev Kumar stopped production in association with youngest brother whereas Sanjeev kumar stopped financial transaction. Reason is not clear why they are scary with each other. They started fighting since December 2018 and in the mean time pharma majors tried to resolve the issue but all 3 kumars are adamant and not ready to be united.

लाइसेंसिंग अथॉरिटी नेहा शौरी की हत्या से लोकसभा चुनाव में पंजाब का फिर सबसे बड़ा मुद्दा बनेगा नशा

लाइसेंसिंग अथॉरिटी नेहा शौरी की हत्या से लोकसभा चुनाव में पंजाब का फिर सबसे बड़ा मुद्दा बनेगा नशा

पिछले आम चुनावों की तरह पंजाब में इस बार फिर नशा सबसे बड़े मुद्दे के रूप में उभरेगा और जोनल ड्रग लाइसेंसिंग ऑथोरिटी नेहा शौरी की हत्या के बाद यह मुद्दा अब ठीक उसी तरह सुर्खियों में आ गया, जैसे फ़िल्म उड़ता पंजाब ने पंजाब में नशे की कलई खोली थी। आगामी रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हो या कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पंजाब को नशे की बेड़ियों से मुक्ति दिलाने के दावे बिना यहां पांव नहीं पसार पाएंगे।

Indo-Uganda Pharma Meet To Eliminate Sham Healthcare Products

Indo-Uganda Pharma Meet To Eliminate Sham Healthcare Products

Pharmexcil periodically conducts the buyer-seller meet to create linkages and effective communication between the manufacturers and importers of different countries.This time, BSM was organised in Uganda where 45 pharma companies from India participated and met more than 50 top importers from Uganda, Rwanda and other neighbouring countries.

इंडिया फार्मा 2019 में खुला राज- फार्मास्युटिकल क्षेत्र को 3 लाख करोड़ का बाजार बनाने में जुटा रसायन मंत्रालय

इंडिया फार्मा 2019 में खुला राज- फार्मास्युटिकल क्षेत्र को 3 लाख करोड़ का बाजार बनाने में जुटा रसायन मंत्रालय

केन्‍द्रीय रसायन और उर्वरक, सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्री, डीवी सदानंद गौड़ा ने कहा कि भारत उच्च गुणवत्ता वाली जन औषधियों के विनिर्माण में शीर्ष स्‍थान पर बरकरार है। सरकार का ध्यान सभी के लिए सस्‍ती स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच में सुधार लाने पर केंद्रित है। सरकार दुनिया में सबसे बड़े सरकारी वित्त पोषित स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम ‘आयुष्‍मान भारत’ में योगदान पर ध्‍यान दे रही है। श्री गोड़ा आज बेंगलुरू में ‘फार्मास्युटिकल्स एंड मेडिकल डिवाइसेस’ के बारे में भारत के सबसे बड़े वैश्विक सम्मेलन के चौथे संस्करण के उद्घाटन के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर केंद्रीय रसायन और उर्वरक सड़क परिवहन और राजमार्ग, नौवहन राज्य मंत्री, श्री मनसुख एल मंडाविया भी उपस्थित थे। इस सम्मेलन में रूस, केन्या, ब्रिटेन, मलेशिया, इंडोनेशिया, सऊदी अरब और उजबेकिस्तान सहित लगभग 30 से अधिक देशों के ड्रग नियामकों ने भाग लिया। इसके अलावा, इस आयोजन में पूरे देश के 15 राज्यों के ड्रग नियामकों की भागीदारी भी देखी गई। भारत सरकार और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों और फार्मास्युटिकल और चिकित्‍सा उपकरण क्षेत्र के उद्योग जगत के दिग्गज भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए।