BREAKING NEWS:
  • Wednesday, 17 Jul, 2019
  • 8:19:21 PM

सुगम पोर्टल में सुधार के लिए मांगे सुझाव

नई दिल्ली- केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन ने वेब पोर्टल को उपयोगकर्ताओं के लिए अधिक अनुकूल बनाने के लिए निर्माताओं, आयातकों, अनुसंधान और विकास संस्थानों से इस बारे में प्रतिक्रिया मांगी है। ताकि वेब पोर्टल में और अधिक सुधार कर उपयोगकर्ताओं को इसका लाभ मिल सके। पोर्टल का प्रयोग करने वालो को यदि कोई तकनिकी समस्या सामने आयी है तो इसके बारे में वो अपने विचार साँझा कर सकते है । सुगम वेब पोर्टल ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट, 1940 के तहत सीडीएससीओ द्वारा किये गए कार्यो को निर्वहन करने के लिए एक ई-गवर्नेंस प्रणाली है। इस पोर्टल के माध्यम से लोग एनओसी, लाइसेंस, पंजीकरण प्रमाणपत्र, अनुमतियां और अनुमोदन के लिए आवेदन कर सकते हैं आवेदनों को ट्रैक करने, प्रश्नों का जवाब देने और सीडीएससीओ द्वारा जारी अनुमतियों को डाउनलोड करने के लिए एक ऑनलाइन सुविधा प्रदान करता है।



Responses

Related News

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकारी रखने की सरकारी प्रक्रिया में फार्मेसी काउंसिल (पीसीआई) भी भागीदार होगी। पीसीआई ने फिलहाल 300 केंद्र बनाने का फैसला किया है। ये केंद्र जिला और अन्य सरकारी अस्पतालों में बनाए जा रहे हैं। पीसीआई ने एक ऐप भी बनाया है जिसकी मदद से रोगी और डॉक्टर किसी भी दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी सरकार को दे सकते हैं।

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सामान्य अस्पतालों की सप्लाई में दवा कंपनियों की कारगुजारियां अकसर सामने आती है लेकिन अब सैन्य अस्पताल में भी दवा कंपनी का खोट सामने आया है। दवा निर्माता कंपनी ने जालंधर के सैन्य अस्पताल को जो दवा सप्लाई की थी, उसके बिल पर अंकित और दवा के बैच नंबर में अंतर है। यानि किसी और बैच नंबर की दवा सप्लाई की गई और दवा निर्माता कंपनी ने बिल दूसरे बैच नंबर का बना कर फरीदाबाद की दवा वितरक कंपनी को भेज दिया।

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

बार-बार सैंपल फेल होने पर दवा नियंत्रक प्राधिकरण ने हिमाचल के 20 दवा उद्योगों में प्रोडक्शन बैन कर दिया है जबकि आधा दर्जन उद्योग संचालकों को नोटिस जारी किए हैं। इसका कारण छह महीने के दौरा 67 दवाओं के सैंपल फेल होना बताया गयाहै। इतना ही प्राधिकरण ने ऐसे 100 उद्योगों की सूची बनाई और जांच-पड़ताल के बाद यह बड़ी कार्रवाई की है जिससे हडक़ंप मच गया है। ये उद्योग सोलन के बीबीएन, सिरमौर और कांगड़ा जिलों में संचालित है।

 पैकिंग पर दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी नहीं तो झेलनी होगी कानूनी मार

पैकिंग पर दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी नहीं तो झेलनी होगी कानूनी मार

दवा कोई भी हो यदि उसके साइड इफेक्ट के बारे में पैकिंग पर जानकारी नहीं मिली तो कंपनी को कानूनी मार झेलनी पड़ेगी। पता चला है कि सरकार ने स्वयं दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकरी हासिल करने की कवायद शुरू कर दी है।