BREAKING NEWS:
  • Wednesday, 17 Jul, 2019
  • 8:51:40 PM

एक साल में फार्मा सेक्टर में 919 करोड़ के उछाल का दावा कर गए मंडविया

नई दिल्ली।         केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख मंडविया ने दावा किया कि फार्मा सेक्टर पर सेवा और वस्तु कर (जीएसटी) का प्रभाव मोटे तौर पर सकारात्मक और रचनात्मक रहा है।  रसायन और उर्वरक मंत्रालय ने सभी नागरिकों के लिए सस्ती और गुणवत्ता युक्त दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए जो कदम कदम उठाए हैं, उनके दूरगामी परिणाम होंगे। 
                       इससे परे, यह अलग बात है कि फार्मा सेक्टर के आर्थिक विश्लेषक उनके दावे को खास तवज्जो नहीं दे रहे। मंत्री मंडविया कि माने तो जीएसटी लागू होने के बाद फार्मा सेक्टर में सकारात्मक प्रगति देखी गई है। उनके मुताबिक, जीएसटी से पहले फार्मा सेक्टर का वार्षिक कारोबार (31.05.2017 के अनुसार) 1,14,231 करोड़ रुपये था जो जीएसटी लागू होने के बाद 1,31,312 करोड़ रुपये (31.05.2018 के अनुसार) तक पहुंच गया है। इस प्रकार यह पूर्व- जीएसटी शासन (2016-17) की तुलना में 6 प्रतिशत अधिक है।
                       2016-17 के दौरान फार्मा सेक्टर का निर्यात 2,75,852 करोड़ रुपये था जबकि वर्ष 2017-18 में जीएसटी लागू होने के बाद यह 3,03,526 करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गया। इस प्रकार यह पूर्व- जीएसटी शासन की तुलना में 10 प्रतिशत से भी अधिक है। उन्होंने बताया कि चालू वर्ष के लिए निर्यात आंकड़े 3,27,700 करोड़ रुपये तक पहुंचने का अनुमान है। जो पूर्व- जीएसटी शासन (2016-17) की तुलना में लगभग 12 प्रतिशत अधिक है।
उन्होंने यह भी बताया कि औषधि अनुमोदनों की संख्या जो जीएसटी से पूर्व (01.07.2016 से 30.06.2017 तक) 7,857 थी वह जीएसटी लागू होने के बाद (01.07.2017 से 30.06.2018 तक) महत्वपूर्ण उछाल लेकर 10,446 हो गई। 
                        मंडविया ने यह भी बताया कि जीएसटी लागू होने के बाद केंद्रीय करों को हटाए जाने के कारण लेनदेन लागत कम होगी क्योंकि दो डीलरों के मध्य अंतर्राज्यीय लेनदेन पर कोई कर नहीं लगेगा।



Responses

Related News

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं पर होगी फार्मेसी काउंसिल की निगरानी, 300 केंद्र बनेंगे

दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकारी रखने की सरकारी प्रक्रिया में फार्मेसी काउंसिल (पीसीआई) भी भागीदार होगी। पीसीआई ने फिलहाल 300 केंद्र बनाने का फैसला किया है। ये केंद्र जिला और अन्य सरकारी अस्पतालों में बनाए जा रहे हैं। पीसीआई ने एक ऐप भी बनाया है जिसकी मदद से रोगी और डॉक्टर किसी भी दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी सरकार को दे सकते हैं।

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सैन्य अस्पताल की सप्लाई में हरियाणा की दवा कंपनी का खोट

सामान्य अस्पतालों की सप्लाई में दवा कंपनियों की कारगुजारियां अकसर सामने आती है लेकिन अब सैन्य अस्पताल में भी दवा कंपनी का खोट सामने आया है। दवा निर्माता कंपनी ने जालंधर के सैन्य अस्पताल को जो दवा सप्लाई की थी, उसके बिल पर अंकित और दवा के बैच नंबर में अंतर है। यानि किसी और बैच नंबर की दवा सप्लाई की गई और दवा निर्माता कंपनी ने बिल दूसरे बैच नंबर का बना कर फरीदाबाद की दवा वितरक कंपनी को भेज दिया।

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

दवा उद्योग पर आफत : 20 कंपनियों में प्रोडक्शन पर रोक, कईयों को नोटिस

बार-बार सैंपल फेल होने पर दवा नियंत्रक प्राधिकरण ने हिमाचल के 20 दवा उद्योगों में प्रोडक्शन बैन कर दिया है जबकि आधा दर्जन उद्योग संचालकों को नोटिस जारी किए हैं। इसका कारण छह महीने के दौरा 67 दवाओं के सैंपल फेल होना बताया गयाहै। इतना ही प्राधिकरण ने ऐसे 100 उद्योगों की सूची बनाई और जांच-पड़ताल के बाद यह बड़ी कार्रवाई की है जिससे हडक़ंप मच गया है। ये उद्योग सोलन के बीबीएन, सिरमौर और कांगड़ा जिलों में संचालित है।

 पैकिंग पर दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी नहीं तो झेलनी होगी कानूनी मार

पैकिंग पर दवा के साइड इफेक्ट्स की जानकारी नहीं तो झेलनी होगी कानूनी मार

दवा कोई भी हो यदि उसके साइड इफेक्ट के बारे में पैकिंग पर जानकारी नहीं मिली तो कंपनी को कानूनी मार झेलनी पड़ेगी। पता चला है कि सरकार ने स्वयं दवाओं के साइड इफेक्ट की जानकरी हासिल करने की कवायद शुरू कर दी है।