BREAKING NEWS:
  • Friday, 17 Aug, 2018
  • 9:35:46 AM

सन फार्मा ने कैंसर के इलाज में काम आने वाली दवा को यूरोप में किया पेश

दिल्ली: सन फार्मास्यूटिकल्स इंडस्ट्रीज ने आज कैंसर के इलाज में काम आने वाली दवा, जेम्सिटाबाईन इन्फ्यूस्मार्ट को यूरोप में पेश किया।

कंपनी ने बंबई शेयर बाजार को बताया, ‘‘सन फार्मा ने कैंसर इलाज से जुड़े वैश्विक बाजार में अपनी मौजूदगी बढ़ाने की कारोबारी रणनीति के तहत आज यूरोप में जेम्सिटाबाईन इन्फ्यूस्मार्ट पेश किया है। इन्फ्यूस्मार्ट एक प्रौद्योगिकी है।’’ सन फार्मा अगले कुछ महीनों में हॉलैंड, ब्रिटेन, स्पेन, जर्मनी, इटली और फ्रांस में जेम्सिटाबाईन इन्फ्यूस्मार्ट पेश करेगी।



Responses

Related News

डीआई नवप्रीत ने दिए निर्देश

डीआई नवप्रीत ने दिए निर्देश

मंडीगोविंदगढ कैमिस्ट ऐसोसिएशन की बैठक आज जीमखाना कल्ब मे हुई। इस बैठक में ड्रग इंस्पेक्टर नवप्रीत सिंह, विजय भूषण व प्रधान अवतार सिंह मौजुद थे। इस अवसर पर नवप्रीत सिंह ने औषधि विभाग की कुछ नई जानकारियो से अवगत कराया व एसोसिएशन को दिशानिर्देश दिए। उन्होने कहा कि ऊपभोक्ता को दवा देने से पहले ये सुनिश्चित करें कि वह डाॅक्टर द्वारा लिखी गई है ।ताकि रोगी को किसी प्रकार की परेशानी न झेलनी पडें ।

22 से 24 जून तक रहेंगी होलसेल दवा दुकाने बंद

22 से 24 जून तक रहेंगी होलसेल दवा दुकाने बंद

चिलचिलाती गर्मी की मार झेल रहे पटियाला के होलसेल दवा विक्रेताओं ने शिमला की ठंडी वादिया सैर सपाटा करने का मन बनाया है । होलसेल कैमिस्ट एसोसिएशन पटियाला द्वारा 22 से 24 तक गर्मीयो की छुटटियो का ऐलान किया है। छुटटी के दौरान यदि कोई दवा व्यापारी इसका उल्लंघन करता है तो उससे जुर्माना वसूला जाएगा। एसोसिएशन के उच्च पदाधिकारियो ने इस बात की पुष्टि की है। एसोसिएशन की विशेष बैठक में यह निर्णय लिया गया । इस बैठक में प्रधान रमेश सिंगला, बोबी मेहता, इंदरजीत दुआ, जतिंद्रपाल सिंह सेठी,सुनिल आहूजा, महेश अत्री, नरेंद्र मित्तल मौजूद थे।चिलचिलाती गर्मी की मार झेल रहे पटियाला के होलसेल दवा विक्रेताओं ने शिमला की ठंडी वादिया सैर सपाटा करने का मन बनाया है । होलसेल कैमिस्ट एसोसिएशन पटियाला द्वारा 22 से 24 तक गर्मीयो की छुटटियो का ऐलान किया है। छुटटी के दौरान यदि कोई दवा व्यापारी इसका उल्लंघन करता है तो उससे जुर्माना वसूला जाएगा। एसोसिएशन के उच्च पदाधिकारियो ने इस बात की पुष्टि की है। एसोसिएशन की विशेष बैठक में यह निर्णय लिया गया । इस बैठक में प्रधान रमेश सिंगला, बोबी मेहता, इंदरजीत दुआ, जतिंद्रपाल सिंह सेठी,सुनिल आहूजा, महेश अत्री, नरेंद्र मित्तल मौजूद थे।

राष्ट्रीय अध्यक्ष की रणनीति क्या दे रही है सन्देश

राष्ट्रीय अध्यक्ष की रणनीति क्या दे रही है सन्देश

दवा विक्रेताओं के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे एस शिंदे हाल ही में नागपुर केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के पद ग्रहण समारोह में पहुचे । उपस्थित केमिस्टों को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि ई फार्मेसी का प्रचलन दवा विक्रेताओं के लिए घातक है । इस प्रणाली से दवा विक्रेताओं के भविष्य सवालिया लग गया है । सरकार इसे अविलंब रोकने हेतु अध्यादेश जारी करें। जिसका सदन में मौजूद दवा विक्रेताओं ने मुक्तकंठ से स्वागत किया । वहीं कुछ चौकन्ने दवा विक्रेताओं ने महसूस किया की राष्ट्रीय अध्यक्ष जहां एक और इंफॉर्मेशन के वेब पोर्टल का स्वयं उद्घाटन करते हैं वही दवा विक्रेताओं के सामने ई फार्मेसी का विरोध करते हैं ।

दवा कीमतों में कुछ राहत की उम्मीद सरकार ले सकती है दवाओं को लेकर बड़ा फैसला!

दवा कीमतों में कुछ राहत की उम्मीद सरकार ले सकती है दवाओं को लेकर बड़ा फैसला!

दवाओं की कीमत में आम आदमी को राहत की उम्मीद बंधी है क्योंकि अब महंगाई के बढ़ने और घटने के साथ दवा की कीमतें तय हो सकती है ।इससे दवाओं की कीमत से राहत जरूर मिल सकती हैं । इसके लिए नीति आयोग ने सुझाव दिया है कि दवाओं की कीमत को थोक मूल्य सूचकांक यानी डब्ल्यूपीआई से जोड़ा जाए ।फिलहाल दवा कंपनियां सालाना दाम बढ़ाती हैं । दवाओं की कीमत को थोक मूल्य सूचकांक से जोड़ने के लिए ड्रग प्राइस कंट्रोल ऑर्डर 2013 को बदला जाएगा । इससे फार्मा इंडस्ट्री को झटका लग सकता है ।अभी सिर्फ जरूरी दवाएं डब्ल्यूपीआई से जुड़ी हैं । प्रस्ताव मंजूर होने पर सभी मेडिसिन डब्ल्यूपीआई जुड़ेंगी. इससे कंपनियों को दवाओं की कीमत घटानी भी पड़ सकती हैं ।फिलहाल 850 दवाओं की कीमत पर सरकारी नियंत्रण है । दवा कंपनियों को सालाना 10 फीसदी दाम बढ़ाने की इजाजत है ।