BREAKING NEWS:
  • Sunday, 16 Dec, 2018
  • 12:16:39 AM

राष्ट्रीय अध्यक्ष की रणनीति क्या दे रही है सन्देश

हंस राज मेहता, पटियाला :- दवा विक्रेताओं के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे एस शिंदे हाल ही में नागपुर केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के पद ग्रहण समारोह में पहुचे । उपस्थित  केमिस्टों को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि ई फार्मेसी का प्रचलन दवा विक्रेताओं के लिए घातक है । इस प्रणाली से दवा विक्रेताओं के भविष्य सवालिया लग गया है । सरकार इसे अविलंब रोकने हेतु अध्यादेश जारी करें। जिसका सदन में मौजूद दवा विक्रेताओं ने मुक्तकंठ से स्वागत किया । वहीं कुछ चौकन्ने दवा विक्रेताओं ने महसूस किया की राष्ट्रीय अध्यक्ष जहां एक और इंफॉर्मेशन के वेब पोर्टल का स्वयं उद्घाटन करते हैं वही दवा विक्रेताओं के सामने ई फार्मेसी का विरोध करते हैं । उनकी इस कार्य प्रणाली के चलते  दवा विक्रेताओं में विरोधी स्वर गूंजने लगे कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जैसा देश वैसा भेष जैसा मौका वैसा चौका की रणनीति अपना रहे है । इससे दवा विक्रेताऔं में भ्रम की स्थिति बन रही है ।सवाल यह है कि वे दवा विक्रेताओं के नेता हैं उन्हें दवा विक्रेताओं का भविष्य सुरक्षित करना है या उनके भविष्य को धूमिल कर उनके ठोस प्रतिद्वंदी खड़ा करना है। नागपुर केमिस्ट एसोसिएशन के शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित पत्रकार बंधुओं ने जब पत्रकार वार्ता में राष्ट्रीय अध्यक्ष से एक तरफ ई फार्मेसी के वेब पोर्टल का उद्घाटन किया वहीं इस बैठक में इस फार्मेसी का विरोध कर रहे हैं इस बारे अपनी स्थिति स्पष्ट करें तो  शिंदे कोई जवाब नहीं दे पाए । जिस पर उनके दवा विक्रेताओं के प्रति जागरूक होने के बारे संशय पैदा हो जाता हैं ।

 



Responses

Related News

दवा कंपनियों की स्पेन बैठक का हैरान करने वाला सच

दवा कंपनियों की स्पेन बैठक का हैरान करने वाला सच

कुछ माह पहले स्पेन में शुगर की दवा बेचने वाली प्रमुख कपनियों की एक बैठक हुई थी जिसमें दवाओं की बिक्री बढ़ाने के लिए सुझाव दिया गया कि अगर शरीर में सामान्य शुगर का मानक 120 से कम कर 100 कर दिया जाए तो शुगर की दवाओं की बिक्री 40 प्रतिशत बढ़ेगी। बता दें कि पहले शरीर में सामान्य शुगर का मानक 160 था जो कि दवाओं की बिक्री के लिए इसे कम करते करते 120 तक लाया गया, जिसे आने वाले समय में 100 तक करने की संभावना है.

कुछ ही दिन में बदलेंगे ई-फार्मा के नियम: डीसीजीआई का निर्णय

कुछ ही दिन में बदलेंगे ई-फार्मा के नियम: डीसीजीआई का निर्णय

ऑनलाइन दवा बेचने वाली कंपनियों पर केंद्र सरकार द्वारा शिकंजा कसे जाने की तैयारी है। संभवतः इस साल के अंत तक इसके लिए केंद्र सरकार नियम तय कर सकती है। भारत के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल एस एस्वावा रेड्डी ने बताया कि इसका उद्देश्य देश भर में ऑनलाइन बिक्री को विनियमित करना है। इसके साथ यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि रोगियों को विश्वसनीय पोर्टल से सही दवाई उपलब्ध हो सके। वे ग्लोबल वेंचर कैपिटल शिखर सम्मेलन में बोल रहे थे।

सुगम पोर्टल में सुधार के लिए मांगे सुझाव

सुगम पोर्टल में सुधार के लिए मांगे सुझाव

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन ने वेब पोर्टल को उपयोगकर्ताओं के लिए अधिक अनुकूल बनाने के लिए निर्माताओं, आयातकों, अनुसंधान और विकास संस्थानों से इस बारे में प्रतिक्रिया मांगी है। ताकि वेब पोर्टल में और अधिक सुधार कर उपयोगकर्ताओं को इसका लाभ मिल सके। पोर्टल का प्रयोग करने वालो को यदि कोई तकनिकी समस्या सामने आयी है तो इसके बारे में वो अपने विचार साँझा कर सकते है

एक साल में फार्मा सेक्टर में 919 करोड़ के उछाल का दावा कर गए मंडविया

एक साल में फार्मा सेक्टर में 919 करोड़ के उछाल का दावा कर गए मंडविया

केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख मंडविया ने दावा किया कि फार्मा सेक्टर पर सेवा और वस्तु कर (जीएसटी) का प्रभाव मोटे तौर पर सकारात्मक और रचनात्मक रहा है। रसायन और उर्वरक मंत्रालय ने सभी नागरिकों के लिए सस्ती और गुणवत्ता युक्त दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए जो कदम कदम उठाए हैं, उनके दूरगामी परिणाम होंगे।