BREAKING NEWS:
  • Monday, 16 Sep, 2019
  • 1:56:22 PM

मेडिकल कालेज खोलने के सरकारी फैसले पर शक

         
            मोदी सरकार ने फ़ैसला किया है कि अगले तीन साल में 75 नए मेडिकल कालेज खोले जाएंगे। 24000 करोड़ की राशि ख़र्च होगी। 75 नए कालेजों से मेडिकल में सीटों की संख्या 15,700 बढ़ जाएगी। सूचना प्रसारण मंत्री ने बताया कि पांच साल में 82 मेडिकल कालेज सेट-अप किए गए हैं। 75 नए मेडिकल कालेज उन ज़िलों में खोले जाएंगे जहां पर मेडिकल कालेज नहीं है। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पिछले पांच साल में 82 नए मेडिकल कालेजों को मंज़ूरी दी है और 45,000 सीटें नई बढ़ाई हैं। इसमें एम बी बी एस और पोस्ट ग्रेजुएशन की भी सीटें शामिल हैं। अब अगले तीन साल में 75 मेडिकल कालेजों को मंज़ूरी दी गई है। 
 
            अच्छी बात है। बजट में इसकी कोई घोषणा नहीं थी। प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत 2018-19 के संशोधित बजट में बजट से एक नया पैसा नहीं है। 2019-20 के बजट में भी एक पैसा नहीं है। 2018-19 के बजट में 3285 का प्रावधान था जो बाद में संशोधित बजट में सेंट्रल रोड एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड के खाते में चला गया। प्रेस कांफ्रेंस में डिटेल बताने की सुविधा नहीं होती है, हो सकता है पैसे के बारे में बाद में विस्तार से पता चले। फरवरी 2019 में टाइम्स आफ इडिया में न्यूज़ छपी है। यह रिपोर्ट नीमच के आर टी आई कार्यकर्ता को मिली जानकारी के आधार पर है। इसके अनुसार मध्य प्रदेश में पिछले चार साल में 2015-19 के बीच राज्य में कोई नई सीट नहीं जुड़ी है। यही नहीं पूरे देश भर के मेडिकल कालेजों में 920 सीटें मंज़ूरी की गई हैं। मेडिकल कालेजों में। 
 
            इसी वक्त इंडिया टुडे भी इस आर टी आई की सूचना के आधार पर रिपोर्ट प्रकाशित करता है। राजस्थान और आंध्र प्रदेश में मात्र 50 सीटें मंज़ूर की गईं। कर्नाटक में 550 सीटें मंज़ूरी की गई थीं लेकिन 350 ही सृजित हो सकीं। झारखंड, मध्य प्रदेश, तमिलनाड, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल और मणिपुर में कोई सीट नहीं जुड़ी। मध्यप्रदेश के चार सरकारी अस्पतालों में 450 सीटें जोड़ी जानी थी, 108 करोड़ की राशि भी मंज़ूर हुई मगर तीन साल में एक भी सीट नई नहीं जुड़ी। केंद्र ने तमिलनाडु को 82 करोड़ की राशि दी। मगर एक भी सीट नहीं जुड़ी।  रिपोर्ट कहती है कि केंद्र सरकार ने 36 मेडिकल कालेजों को 2615 मेडिकल सीटें बढ़ाने की मंज़ूरी दी थी लेकिन खास प्रगति नहीं हुई। सरकार ने 2015-18 के बीच 12 राज्यों को मेडिकल सीटें बढ़ाने के लिए 685 करोड़ दिए थे। लेकिन प्रगति उस तरह से नहीं हुई। 
 
            इस जून में टाइम्स आफ इंडिया की एक रिपोर्ट है। उसके अनुसार मध्य प्रदेश में 3 नए मेडिकल कालेज खुले हैं। 2017 तक मध्य प्रदेश में एम बी बी एस की 800 सीटें थीं जो अब बढ़कर 2750 सीटें हो गई हैं। 2000 सीटें 13 सरकारी मेडिकल कालेजों की हैं।   इसी जुलाई स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने लोकसभा में बताया है कि 2017-18 और 2018-19 में 5,250 नई मेडिकल सीटें जोड़ी गईं। 2019-20 में 10,565 सीटें जोड़ी गईं। सारी सीटें अंडर ग्रेजुएट की है। दो साल में मेडिकल कालेज में 24698 सीटों की वृद्धि हुई है।  ज़ाहिर है स्वास्थ्य मंत्री की जानकारी और आर टी आई से मिली जानकारी पर जो रिपोर्ट छपी है, दोनों में काफी अंतर है। एक जगह पढ़ने को मिला कि एक मेडिकल सीट बनाने में 1 करोड़ 20 लाख का ख़र्च आता है।
 
रवीश की वाल से...



Responses

Related News

Universal Healthcare in India –  Digital Health, a stitch in time

Universal Healthcare in India – Digital Health, a stitch in time

Around 6 Crore Indians fall into financial distress every year as a result of medical costs in the family. India has so far been a patient-pays market where the patient bears over 80% of the medical expense out of his own pocket with no protection. An estimated 3 Million Years of healthy life are lost due to Adverse Medical Events / Patient Injury via 5.2 Million recorded Patient Injuries in India. At the very least these result in extended hospital stays, additional treatment costs and time away from work and life for the patient. Sometimes death and disability too.

भूख हड़ताल के बाद खट्टर सरकार राजी फिजियोथैरेपिस्ट की मांगों पर होगा विचार

भूख हड़ताल के बाद खट्टर सरकार राजी फिजियोथैरेपिस्ट की मांगों पर होगा विचार

हरियाणा चार्टेड एसोसिएशन ऑफ फियोथेरपिस्ट्स के बैनर तले आज एसोसिएशन के एक 13 सदस्यीय शिष्ट मंडल ने हरियाणा सचिवालय में जाकर हरियाणा फिजियोथेरेपी कौंसिल की फ़ाइल के बारे में संबंधित अधिकारियों से मुलाकात की ओर उस फ़ाइल की वर्तमान हालात पर चर्चा की एसोसिएशन के प्रदेश अध्य्क्ष डॉ आर के मुदगिल ने बताया कि अधिकारियों का रवैया काफी सौहार्दपूर्ण रहा और उन्होंने हरियाणा चार्टर्ड एसोसिएशन द्वारा कौंसिल ड्राफ्ट के लिए सोंपे गए सुझावों पर गौर करते हुए इस बात पर सहमति जताई कि कौंसिल के अंदर इलेक्टेड मेंबर्स की संख्या अधिक रखी जाए और इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि प्रदेश फिजियोथेरेपी कौंसिल मैं फिजियोथेरेपी चिकित्सकों की संख्या ज्यादा रखी जाए ताकि कौंसिल बनाने का मूल उद्देश्य पूरा हो सके। अधिकारियों द्वारा कि गई सकारात्म पहल के चलते प्रदेश के फिजियोथेरेपी चिकित्सकों व सरकार का टकराव टल गया है।

सीएम खट्टर नहीं माने, भूख हड़ताल पर बैठे हरियाणा के फिजियोथैरेपिस्ट

सीएम खट्टर नहीं माने, भूख हड़ताल पर बैठे हरियाणा के फिजियोथैरेपिस्ट

हरियाणा में फिजियोथैरपी कौंसिल के गठन में ढिलाई का आरोप लगाते हुए हजारों फिजियोथैरपिस्टों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। हरियाणा के विभिन्न जिलों से आए हुए फिजियोथैरपिस्ट रविवार से चंडीगढ़ में अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। फिजियोथैरपिस्टों के सभी संगठनों ने इस मुद्दे पर एकजुटता दिखाते हुए आने वाले दिनों में आंदोलन और तेज करने का ऐलान किया है।

हरियाणा विधानसभा घेरेंगे फिजियोथैरेपिस्ट

हरियाणा विधानसभा घेरेंगे फिजियोथैरेपिस्ट

प्रदेश में कार्यरत सभी फिजियोथैरेपी एसोसिएशनों के पदाधिकारियों की एक बैठक आज स्थानीय दिल्ली बाईपास पर हुई। यह जानकारी देते हुए हरियाणा चार्टड एसोसिएशन ऑफ फिजियोथैरेपिस्ट के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. आर.के. मुदगिल ने बताया कि बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि प्रदेश की सभी फिजियोथैरेपी एसोसिएशन पिछले कई वर्षों से अपने-अपने स्तर पर अन्य प्रदेशों की तर्ज पर हरियाणा प्रदेश में फिजियोथैरेपी काऊंसिल के गठन की मांग करती आ रही हैं। जिसके लिये पूर्व में कांग्रेस सरकार से लेकर वर्तमान में भाजपा सरकार के मंत्रियों को अलग-अलग ज्ञापन दिये जा चुके हैं।