BREAKING NEWS:
  • Sunday, 16 Dec, 2018
  • 12:02:19 AM

उपलब्धि: प्रसव के दौरान बची 12000 माताओं की जिंदगी

-2012 की तुलना में 2015 में प्रसव के दौरान माताओं की मृत्‍यु में लगभग 12000 की उल्‍लेखनीय कमी आई 
 
-भारत ने प्रति लाख शिशुओं के जन्‍म पर 139 की मातृ मृत्‍यु दर (एमएमआर) का सहस्राब्‍दी विकास लक्ष्‍य (एमडीजी) हासिल कर लिया है : नड्डा 
 
-हम आयुष्‍मान भारत| पीएमआरएसएसएम को लागू करने के लिए 14 राज्‍यों के साथ एमओयू पर हस्‍ताक्षर करेंगे|
 
पूजा, नई दिल्ली: ‘2012 की तुलना में 2015 (मध्‍य वर्ष) में हमने लगभग 12000 माताओं का जीवन बचाया है। पहले प्रसव के दौरान हर वर्ष 44000 माताओं की मृत्‍यु हो जाती थी, लेकिन अब यह आंकड़ा घटकर केवल 32000 के स्‍तर पर आ गया है।’ यह बात केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्री जे.पी. नड्डा ने यहां सरकार की 48 महीनों की उपलब्धियों को रेखांकित करने के लिए आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन में कही। श्री नड्डा ने कहा कि देश में 2013 से मातृ मृत्‍यु दर (एमएमआर) में रिकॉर्ड 22 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है, जो पहले की तुलना में अब तक की एमएमआर में कमी का सबसे अधिक प्रतिशत है। श्री नड्डा ने कहा, ‘भारत ने 2015 तक 130 शिशुओं को जीवित पैदा कराने में सफलता हासिल कर 139 प्रति लाख जीवित शिशुओं के जन्‍म के एमएमआर के सहस्राब्‍दी विकास लक्ष्‍य (एमडीजी) को हासिल किया है। इस दर से हम 2030 की लक्षित समय सीमा से पहले 2022 तक 70 का सतत विकास लक्ष्‍य (एसडीजी) को हासिल कर लेंगे।’
  

  संवाददाता सम्‍मेलन में स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण राज्‍य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और अनुप्रिया पटेल, सचिव (स्‍वास्‍थ्‍य) श्रीमती प्रीती सूदन और आयुष्‍मान भारत मिशन के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) श्री इन्‍दु भूषण भी उपस्थित थे।
   
श्री नड्डा ने कहा कि 10 राज्‍यों ने पहले ही एमएमआर के सहस्राब्‍दी विकास लक्ष्‍यों (एमडीजी) को हासिल कर लिया है। उत्‍तर प्रदेश में 2013 से एमएमआर में 30 प्रतिशत की कमी से सरकार के प्रयासों के परिणाम भी नजर आ रहे हैं। श्री नड्डा ने कहा कि एमएमआर कम करने के एमडीएच लक्ष्‍य को हासिल करने में आरएमएनसीएच +ए के अंतर्गत जीवन चक्र का दृष्टिकोण और देखभाल जारी रखने के खाके का काफी योगदान रहा है।
 
  सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि व्‍यापक स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल को देश की वास्‍तविकता बनाने वाले ‘आयुष्‍मान भारत’ है। देश के समेकित स्‍वास्‍थ्‍य कवरेज का यह दृष्टिकोण व्‍यापक प्राथमिक देखभाल सुनिश्चित कराने पर आधारित है, जो द्वितीयक और तृतीयक देखभाल से जुड़ा है। इससे देश के स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल के परिदृश्‍य में बदलाव आएगा। हम ‘आयुष्‍मान भारत’ लागू करने की तय समय सीमा के अनुसार आगे बढ़ रहे हैं।   



Responses

Related News

वैज्ञानिको का आधुनिक आविष्कार अब फैट के टिश्यू से बन सकेंगे प्लेटलेट्स

वैज्ञानिको का आधुनिक आविष्कार अब फैट के टिश्यू से बन सकेंगे प्लेटलेट्स

जापान की कीयो यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता यमिको मत्सुबरा के नेतृत्व किये गए अध्ययन में यह साबित हुआ है की एक स्टेम सेल लाइन बनाने में फैट टिश्यू का उपयोग किया जा सकता है। इससे महज 12 दिनो को प्रक्रिया में प्लेटलेट्स को तैयार किया जा सकता है। शोधकर्ताओं ने यह भी सत्यापित किया है की प्रयोगशाला में तैयार किये गए प्लेटलेट्स प्राकृतिक प्लेटलेट्स की तरह सतह पर प्रोटीन और ग्रेन्यूल पाए गए है। ग्रेन्यूल खून को ज़माने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

दक्षता फाउंडेशन ने आयोजित किया शिविर

दक्षता फाउंडेशन ने आयोजित किया शिविर

एस.जी.एम. नगर स्थित ज्ञान डीप पब्लिक स्कूल में दक्षता फाउंडेशन द्वारा निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया शिविर के आयोजन में फाउंडेशन में कार्ययत फार्मासिस्टों का रचनात्मक सहयोग रहा इस अवसर पर मुख्य अतिथि बीजेपी विधायिका सीमा त्रिखा रहीं व विशिष्ट अतिथि के रूप में सामाजिक कार्यकर्ता देव सिंग गोसाई, दत्ता ,श्रीकांत रहें।शिविर में एसोसिएट सदस्य समाजिक कार्यकर्ता मोनिका शर्मा व राजेश वशिष्ठ प्रेसिडेंट एस. एस. एफ रहें।

अब भिवानी में होगा एड्स पीड़ितों का उपचार विश्व एड्स दिवस पर हुए शुरुवात

अब भिवानी में होगा एड्स पीड़ितों का उपचार विश्व एड्स दिवस पर हुए शुरुवात

एच आई वी एड़स के पॉजिटिव मरीजों को रोहतक जाने की बजाय अब चौ. बंसीलाल अस्पताल में इलाज मिलेगा। शनिवार को एच आई एंव एड़स निदेशक डा. वीना सिंह ने विधिवत एफ आई ए आर टीे सैटर उदघाटन किया। अब एडस के पॉजिटिव मरीजो को रोहतक जाने की जरुरत नही है। सोमवार से उन्हें सामान्य अस्पताल में इलाज शुरु हो जाएगा।

आखिर कैसे लगाम लग पायेगी राष्ट्रीय राजधानी की अवैध पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं पर दिल्ली हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब

आखिर कैसे लगाम लग पायेगी राष्ट्रीय राजधानी की अवैध पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं पर दिल्ली हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब

उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी में अवैध तरीके से चल रही पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं को लेकर दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है। उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को तलब कर 17 दिसंबर को अदालत में पेश होने के निर्देश दिए है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने पूछा है की दिल्ली सरकार ने ऐसी प्रयोगशालाओं पर अंकुश लगाने के लिए कारवाही क्यों नहीं की।