BREAKING NEWS:
  • Sunday, 16 Dec, 2018
  • 12:02:03 AM

छत्तीसगढ़ में नर्सों का उत्पीड़न, जेल में नर्सें

वैसे तो महिलाओं को अपना घर- परिवार बहुत प्यारा होता है, जिनके बिना रहना उन्हें बिलकुल मंजूर नही है किंतु छत्तीसगढ़ की सरकारी अस्पताल में कार्यरत नर्सों की ऐसी कौनसी जरूरत है जो उन्हें अपना घर- परिवार छोड़कर रायपुर के ईदगाह भाठा मैदान में 45℃ की तपती गर्मी में बैठने पर मजबूर कर रही है।
         नर्सें जिन्हें सादगी और सेवाभाव की प्रतिमूर्ति कहा जाता है, मरीजों की सेवा ही जिनका धर्म है, उनका छत्तीसगढ़ शासन द्वारा लगातार शोषण किया जा रहा है। जिसके विरोध में छत्तीसगढ़ के नर्सों द्वारा 18/5/18 से आंदोलन किया जा रहा है जिसका आज 14वाँ दिन है। इन नर्सों में कई ऐसी महिलाएं हैं जिनके बच्चे अभी छोटे हैं और उन्हें माँ के साथ की जरूरत हैकिन्तु शासन की बेरुखी के कारण उन्हें तपती गर्मी में खुले मैदान में अपना दिन काटने पर मजबूर होना पड़ा है।
        छत्तीसगढ़ की नर्सों का यहाँ के शासन द्वारा हमेशा से उपेक्षा किया जा रहा है। डब्लू एच ओ के मापदंड के अनुसार 8 मरीजों के लिए 1 नर्स की आवश्यक्ता होती है किंतु यहाँ पर 30 से 40 मरीजों के लिए 1 नर्स की पोस्टिंग की जाती है जो बहुत ही दयनीय स्थिति है। अन्य राज्यों में स्टाफ नर्सों को 4600 ग्रेड पे दिया जाता है किंतु हमारे छत्तीसगढ़ में 2800 के लगभग आधे वेतन पर कार्य कराया जाता है। यहाँ के नर्सों द्वारा नर्सिंग कैडर के ग्रेड 2 की मांग की गई है जो अन्य राज्यों में प्राप्त है। केंद्र तथा अन्य राज्यों में स्टाफ नर्स के पदनाम में परिवर्तन कर नर्सिंग ऑफिसर किया गया है जिसका आदेश छत्तीसगढ़ शासन को बहुत पहले मिल चुका है किंतु यहाँ की शासन शायद नये पदनाम से खुश नही है इसलिए पदनाम में परिवर्तन नही कर रही है। अन्य राज्यों में दिए जाने वाले वेतन और भत्तों से छतीसगढ़ में दिए जाने वाले वेतन बहुत कम है। जब इस विषय में शासन से गुहार लगाई गई तो उनके अधिकारी द्वारा दो टूक में जवाब दिया गया कि जहाँ ज्यादा वेतन मिल रहा है वहाँ चले जाओ। एक तरफ शासन पलायन रोकने की बात करती है और उनके अधिकारी ऐसा जवाब देकर पलायन को बढ़ावा दे रहे हैं। लगातार 3 सालों तक शासन से गुहार लगाने पर अपना हक नही मिलने से परेशांन छत्तीसगढ़ की नर्सेस अपनी सेवाओं पर रोक लगाकर,हक की प्राप्ति हेतु आंदोलन करने पर मजबूर हैं।
      आखिर बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ, महिला शसक्तीकरण आदि की दुहाई देने वाली शासन को इन नर्सेस की मांगों को पूरा करने में कहाँ दिक्कत हो रही है। शायद शासन को लगता है कि महिलाएं कमजोर होती है इसलिए कम वेतन देकर कार्य करवाने पर अड़ी हुई है जबकि हमारा संविधान समान कार्य समान वेतन की तरफदारी करता है। हमारी यही दुआ है कि छत्तीसग शासन इन बेटियों की मांग जल्द से जल्द पूरा करें।



Responses

Related News

दक्षता फाउंडेशन ने आयोजित किया शिविर

दक्षता फाउंडेशन ने आयोजित किया शिविर

एस.जी.एम. नगर स्थित ज्ञान डीप पब्लिक स्कूल में दक्षता फाउंडेशन द्वारा निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया शिविर के आयोजन में फाउंडेशन में कार्ययत फार्मासिस्टों का रचनात्मक सहयोग रहा इस अवसर पर मुख्य अतिथि बीजेपी विधायिका सीमा त्रिखा रहीं व विशिष्ट अतिथि के रूप में सामाजिक कार्यकर्ता देव सिंग गोसाई, दत्ता ,श्रीकांत रहें।शिविर में एसोसिएट सदस्य समाजिक कार्यकर्ता मोनिका शर्मा व राजेश वशिष्ठ प्रेसिडेंट एस. एस. एफ रहें।

वैज्ञानिको का आधुनिक आविष्कार अब फैट के टिश्यू से बन सकेंगे प्लेटलेट्स

वैज्ञानिको का आधुनिक आविष्कार अब फैट के टिश्यू से बन सकेंगे प्लेटलेट्स

जापान की कीयो यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता यमिको मत्सुबरा के नेतृत्व किये गए अध्ययन में यह साबित हुआ है की एक स्टेम सेल लाइन बनाने में फैट टिश्यू का उपयोग किया जा सकता है। इससे महज 12 दिनो को प्रक्रिया में प्लेटलेट्स को तैयार किया जा सकता है। शोधकर्ताओं ने यह भी सत्यापित किया है की प्रयोगशाला में तैयार किये गए प्लेटलेट्स प्राकृतिक प्लेटलेट्स की तरह सतह पर प्रोटीन और ग्रेन्यूल पाए गए है। ग्रेन्यूल खून को ज़माने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

आखिर कैसे लगाम लग पायेगी राष्ट्रीय राजधानी की अवैध पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं पर दिल्ली हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब

आखिर कैसे लगाम लग पायेगी राष्ट्रीय राजधानी की अवैध पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं पर दिल्ली हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब

उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी में अवैध तरीके से चल रही पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं को लेकर दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है। उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को तलब कर 17 दिसंबर को अदालत में पेश होने के निर्देश दिए है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने पूछा है की दिल्ली सरकार ने ऐसी प्रयोगशालाओं पर अंकुश लगाने के लिए कारवाही क्यों नहीं की।

अब भिवानी में होगा एड्स पीड़ितों का उपचार विश्व एड्स दिवस पर हुए शुरुवात

अब भिवानी में होगा एड्स पीड़ितों का उपचार विश्व एड्स दिवस पर हुए शुरुवात

एच आई वी एड़स के पॉजिटिव मरीजों को रोहतक जाने की बजाय अब चौ. बंसीलाल अस्पताल में इलाज मिलेगा। शनिवार को एच आई एंव एड़स निदेशक डा. वीना सिंह ने विधिवत एफ आई ए आर टीे सैटर उदघाटन किया। अब एडस के पॉजिटिव मरीजो को रोहतक जाने की जरुरत नही है। सोमवार से उन्हें सामान्य अस्पताल में इलाज शुरु हो जाएगा।