BREAKING NEWS:
  • Sunday, 16 Dec, 2018
  • 12:01:33 AM

क्या है बीमारी कि 7 लाख 80 हजार लोग मरते हैं हर साल, पढें रोहतक से नवीन की रिपोर्ट

रोहतक। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जे. पी. नड्डा के निर्देश पर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने हेपेटाइटिस बी संक्रमण के शिकार की संभावना वाले होने वाले सभी स्वास्थ्य कर्मियों को हेपेटाइटिस बी का टीका लगाने का निर्णय लिया है। ऐसे कर्मियों में डिलिवरी कराने वाले, सुई देने वाले और खून और रक्त उत्पाद के प्रभाव में आने वाले स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं। ऐसे स्वास्थ्य कर्मियों के लिए, जो पेशेवर खतरे की संभावना के दायरे में आते हैं और पूरी तरह प्राथमिक श्रृंखला प्राप्त नहीं की है, हेपेटाइटिस बी के टीके की सिफारिश की जाती है।
 
हेपेटाइटिस बी एक वायरल संक्रमण है, जो गुर्दे पर हमला करता है और गंभीर रोग का कारण हो सकता है। वायरस काफी खतरनाक होता है यह संक्रमित व्यक्ति के खून या शरीर से निकलने वाले तरल पदार्थ के संपर्क में आने से होता है। यह संक्रमण संक्रमित व्यक्ति के खून, वीर्य तथा शरीर के तरल पदार्थ के असंक्रमित व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करने से होता है। यह संक्रमण यौन संपर्क, सुई/सिरिंज साझा करने, सुई से होने वाले जख्म या जन्म के समय मां से बच्चे को हो सकता है। गंभीर हेपेटाइटिस बी बिमारी के लिए कोई निश्चित ईलाज नहीं है।
 
हेपेटाइटिस बी संक्रमण स्वास्थ्य कर्मियों के पेशेवर जोखिम के रूप में माना जाता है। रोगियों के साथ संपर्क में रहने और संक्रमणकारी सामग्री के संपर्क में रहने के कारण सामान्य लोगों की तुलना में स्वास्थ्यकर्मी अधिक जोखिम में रहते हैं। स्वास्थ्य कर्मी अकसर संक्रमणकारी खून तथा शरीर से निकलने वाले तरल पदार्थ की संक्रमण क्षमता से अनभिग्य रहते हैं। हेपेटाइटिस बी का टीका शुरू में दिए जाने से स्वास्थ्य कर्मी सुरक्षित रहते हैं।
2015  में विश्व की 3.5 आबादी में हेपेटाइटिस बी वायरस का संक्रमण हुआ और लगभग 257 मिलियन लोग गंभीर हेपेटाइटिस बी संक्रमण के शिकार हैं। यह प्रमुख वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है और अति गंभीर प्रकार का वायरल हेपेटाइटिस है। अनुमान के अनुसार हेपेटाइटिस बी के परिणामस्वरूप लिवर सिरोसिस तथा लिवर कैंसर से प्रत्येक वर्ष 780,000 लोग मर जाते हैं।
 
भारत की आबादी में 2 से 8 प्रतिशत लोगों में हेपेटाइटिस बी है। भारत के 50 मिलियन मामलों में यह बिमारी है। सामान्य जन की तुलना में स्वास्थ्य कर्मियों में 2 से 4 गुणा अधिक हेपेटाइटिस बी संक्रमण की संभावना होती है। हेपेटाइटिस बी की रोकथाम वर्तमान सुरक्षित और प्रभावकारी टीकों से की जा सकती है। स्वास्थ्य मंत्रालय हेपेटाइटिस बी की रोकथाम के लिए अनेक कदम उठा रहा है। इसमें जन्म के समय दिया जाने वाला हेपेटाइटिस बी का टीका शामिल है। यह सार्वभौमिक टीका कार्यक्रम के अंतर्गत नियमित टीकाकरण के रूप में दिया जाता है। टीका लगाने में डिस्पोजेबल सिरिंजों का उपयोग किया जाता है।
 
भारत की रिपोर्ट से संकेत मिलता है कि केवल 16-60 प्रतिशत स्वास्थ्य कर्मियों का पूरी तरह एचबीवी टीकाकरण हुआ है। चिकित्सा सहायकों में एचबीवी संक्रमण का जोखिम अधिक होता है। चिकित्सा सहायक डॉक्टरों की तुलना में टीकाकरण कम कराते हैं। हेपेटाइटिस बी का टीका 90-95 प्रतिशत सुरक्षा करने में कारगर है। व्यस्कों को 1-6 महीनों की अवधि के अंदर हेपेटाइटिस बेयर की तीन खुराक दी जानी चाहिए। राज्य तथा केंद्र शासित प्रदेश लॉजिस्टिक के बारे में तय करेंगे। इसमें टीके के जरूरतमंद लाभार्थियों की संख्या और टीके की मात्रा शामिल है।

एक्सक्लूसिव फार्मा न्यूज़पेपर का रोहतक  सोनीपत  और झज्जर  जोन का ब्यूरो प्रतिनिधि बनने के लिए संपर्क करें 

16 पेज का कलर नेशनल न्यूज़पेपर का पहला अंक अति शीघ्र



Responses

Related News

दक्षता फाउंडेशन ने आयोजित किया शिविर

दक्षता फाउंडेशन ने आयोजित किया शिविर

एस.जी.एम. नगर स्थित ज्ञान डीप पब्लिक स्कूल में दक्षता फाउंडेशन द्वारा निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया शिविर के आयोजन में फाउंडेशन में कार्ययत फार्मासिस्टों का रचनात्मक सहयोग रहा इस अवसर पर मुख्य अतिथि बीजेपी विधायिका सीमा त्रिखा रहीं व विशिष्ट अतिथि के रूप में सामाजिक कार्यकर्ता देव सिंग गोसाई, दत्ता ,श्रीकांत रहें।शिविर में एसोसिएट सदस्य समाजिक कार्यकर्ता मोनिका शर्मा व राजेश वशिष्ठ प्रेसिडेंट एस. एस. एफ रहें।

वैज्ञानिको का आधुनिक आविष्कार अब फैट के टिश्यू से बन सकेंगे प्लेटलेट्स

वैज्ञानिको का आधुनिक आविष्कार अब फैट के टिश्यू से बन सकेंगे प्लेटलेट्स

जापान की कीयो यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता यमिको मत्सुबरा के नेतृत्व किये गए अध्ययन में यह साबित हुआ है की एक स्टेम सेल लाइन बनाने में फैट टिश्यू का उपयोग किया जा सकता है। इससे महज 12 दिनो को प्रक्रिया में प्लेटलेट्स को तैयार किया जा सकता है। शोधकर्ताओं ने यह भी सत्यापित किया है की प्रयोगशाला में तैयार किये गए प्लेटलेट्स प्राकृतिक प्लेटलेट्स की तरह सतह पर प्रोटीन और ग्रेन्यूल पाए गए है। ग्रेन्यूल खून को ज़माने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

आखिर कैसे लगाम लग पायेगी राष्ट्रीय राजधानी की अवैध पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं पर दिल्ली हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब

आखिर कैसे लगाम लग पायेगी राष्ट्रीय राजधानी की अवैध पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं पर दिल्ली हाईकोर्ट ने किया जवाब तलब

उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी में अवैध तरीके से चल रही पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं को लेकर दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है। उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को तलब कर 17 दिसंबर को अदालत में पेश होने के निर्देश दिए है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने पूछा है की दिल्ली सरकार ने ऐसी प्रयोगशालाओं पर अंकुश लगाने के लिए कारवाही क्यों नहीं की।

अब भिवानी में होगा एड्स पीड़ितों का उपचार विश्व एड्स दिवस पर हुए शुरुवात

अब भिवानी में होगा एड्स पीड़ितों का उपचार विश्व एड्स दिवस पर हुए शुरुवात

एच आई वी एड़स के पॉजिटिव मरीजों को रोहतक जाने की बजाय अब चौ. बंसीलाल अस्पताल में इलाज मिलेगा। शनिवार को एच आई एंव एड़स निदेशक डा. वीना सिंह ने विधिवत एफ आई ए आर टीे सैटर उदघाटन किया। अब एडस के पॉजिटिव मरीजो को रोहतक जाने की जरुरत नही है। सोमवार से उन्हें सामान्य अस्पताल में इलाज शुरु हो जाएगा।