BREAKING NEWS:
  • Saturday, 25 May, 2019
  • 12:43:50 AM

पिता से 10 हजार रुपए उधार लेकर शुरू की थी कंपनी, अब हैं 'फार्मा किंग'

कोलकाता में फार्मा होलसेलर के तौर पर कामकाज शुरू करने वाले दिलीप संघवी ने सन फार्मा का गठन 1983 में किया. सिर्फ 5 लोगों और 5 दवाओं के साथ पहला प्लांट लगाने वाली सन फार्मा का मार्केट कैप 2.10 लाख करोड़ रुपए के पार निकल गया है. कंपनी की सालाना बिक्री 4.2 अरब डॉलर है. पिछले दो सालों में सन फार्मा ने प्रतिस्पर्धी फार्मा कंपनी रैनबैक्सी समेत करीब 13 कंपनियों का अधिग्रहण किया है. अपने समकालीनों के उलट सांघवी हमेशा अपने लक्ष्य पर केंद्रित रहे हैं. जब विदेश में उपक्रम लगाने की बारी आई तो उन्होंने केवल अमेरिकी बाजार पर ध्यान दिया, जो दुनिया का बड़ा दवा बाजार है. निवेशकों ने इसे सराहा.

 

घाटे में चल रही कंपनियों को मुनाफे में बदलने में माहिर
1955 में मुंबई में जन्मे दिलीप संघवी को घाटे में चल रही कंपनियों को खरीदकर उनकी काया पलटने के लिए जाना जाता है. दिलीप संघवी हमेशा कंपनी को सस्ते में खरीदने में विश्वास रखते हैं. कंपनी ने पहला सौदा 1987 में किया. लंबी सौदेबाजी के बाद अमेरिका की कैरको फार्मा दिलीप संघवी की पहली बड़ी खरीद थी. ये सौदा 5 करोड़ डॉलर में हुआ. इसके बाद दिलीप संघवी ने अमेरिका में ही दो और कंपनियों वैलिएंट और एबल फार्मा को खरीदा. घाटे में चल रही इन फार्मा कंपनियों की आज सन फार्मा की आमदनी में बड़ी हिस्सेदारी है.



Responses

Related News

Pharma & Healthcare Industry can generate 5 million New Jobs every year

Pharma & Healthcare Industry can generate 5 million New Jobs every year

For every challenge we face - unemployment, poverty, crime, income growth, income inequality, productivity, competitiveness - a great education is a major component of the solution. From Jawaharlal Nehru to Narendra Modi or any prime minister of India cannot fulfil commitment of employment because they do not know how. They do not know demand supply chain. Indian pharmaceutical industry is providing 10 million jobs for skilled and unskilled workers.

INDIA IS LIFELINE OF THE WORLD

INDIA IS LIFELINE OF THE WORLD

Trump over and again creates buzz of false nationalist to grab the media coverage. It is trend now globally, politicians talk in all front without validated data. We strongly disagree with the observations made by USTR that India and China are involved in manufacturing substandard generic medicine. USTR is The Office of the United States Trade Representative is the United States government agency responsible for developing and recommending United States trade policy to the President of the United States.

Singham Regulators Made Pharma India a Global Super Power But....

Singham Regulators Made Pharma India a Global Super Power But....

It is an old adage “Rome was not built in a day “Similarly global super power tag not attached to Indian Pharma Industries in a day. Regulators worked day and night in policy making, implementation and coordination with industry and global regulatory agencies for better administration. Two Singham, Dr.Surender Singh & Dr.G.N.Singh made CDSCO proactive and stronger in terms of transparency and administration.

FREQUENT POLICY CHANGE MEANS NATIONAL LOSS

FREQUENT POLICY CHANGE MEANS NATIONAL LOSS

Honourable regulators, legal advisors and manufacturers please justify as why stability is mandatory to get product permission whether old drug or a new drug. Sharing facts and asking questions as why it so happening into the pharmaceutical industry over and again. Drug and Cosmetic Act is in place to regulate the pharmaceutical industry then why everyday new circular is coming to the industry people.