BREAKING NEWS:
  • Friday, 22 Feb, 2019
  • 8:05:51 PM

पिता से 10 हजार रुपए उधार लेकर शुरू की थी कंपनी, अब हैं 'फार्मा किंग'

कोलकाता में फार्मा होलसेलर के तौर पर कामकाज शुरू करने वाले दिलीप संघवी ने सन फार्मा का गठन 1983 में किया. सिर्फ 5 लोगों और 5 दवाओं के साथ पहला प्लांट लगाने वाली सन फार्मा का मार्केट कैप 2.10 लाख करोड़ रुपए के पार निकल गया है. कंपनी की सालाना बिक्री 4.2 अरब डॉलर है. पिछले दो सालों में सन फार्मा ने प्रतिस्पर्धी फार्मा कंपनी रैनबैक्सी समेत करीब 13 कंपनियों का अधिग्रहण किया है. अपने समकालीनों के उलट सांघवी हमेशा अपने लक्ष्य पर केंद्रित रहे हैं. जब विदेश में उपक्रम लगाने की बारी आई तो उन्होंने केवल अमेरिकी बाजार पर ध्यान दिया, जो दुनिया का बड़ा दवा बाजार है. निवेशकों ने इसे सराहा.

 

घाटे में चल रही कंपनियों को मुनाफे में बदलने में माहिर
1955 में मुंबई में जन्मे दिलीप संघवी को घाटे में चल रही कंपनियों को खरीदकर उनकी काया पलटने के लिए जाना जाता है. दिलीप संघवी हमेशा कंपनी को सस्ते में खरीदने में विश्वास रखते हैं. कंपनी ने पहला सौदा 1987 में किया. लंबी सौदेबाजी के बाद अमेरिका की कैरको फार्मा दिलीप संघवी की पहली बड़ी खरीद थी. ये सौदा 5 करोड़ डॉलर में हुआ. इसके बाद दिलीप संघवी ने अमेरिका में ही दो और कंपनियों वैलिएंट और एबल फार्मा को खरीदा. घाटे में चल रही इन फार्मा कंपनियों की आज सन फार्मा की आमदनी में बड़ी हिस्सेदारी है.



Responses

Related News

Business career in Indian E-Pharmacy

Business career in Indian E-Pharmacy

E-pharmacies are recent entrants in the Indian e-commerce industry landscape, with it receiving increased attention from government and investors in the last three to five years. Today, the E-pharmacy market potential is worth over a 3,500 Crore with more than 35 startups assisting the growth of this segment in various regions of India. Inspite of being a novel segment in the Indian E - commerce industry, it is anticipated to grow at a CAGR of over 20%, crossing the 25,000 Cr mark by 2022.

Online Pharmacy Status globally

Online Pharmacy Status globally

The global ePharmacy market size was valued at USD 35 billion in 2018 and is projected to grow at a CAGR of 14.8% during the forecast period. By 2023, it is predicted that the market will grow to reach around 128 billion dollars. Currently there are 35000 active online pharmacy players are there in global market.

Indian Pharma Industry Can Generate 10 Million Jobs Globally

Indian Pharma Industry Can Generate 10 Million Jobs Globally

Alone Indian Pharma Industry has employed 5 million people in India and approximately 1 million across the world when there is no support to pharmaceutical industry in planed way. Whatever industry growth industry gained over the time is only by self help. Government of India always gives vision of five years to the pharmaceutical industry but vision document never comes to pharma stake holders. Only paper work cannot make India great.

INDIA-CHINA 20:20 IN EXPORT

INDIA-CHINA 20:20 IN EXPORT

Over the years, India has earned the sobriquet of the ‘pharmacy of the world’ for being a leading supplier of affordable medicine to approximately all 208 countries. In 2018, India’s pharmaceutical export touched upon $20 billion. India is a responsible country and working hard not only to earn money but also to save life of global community. Both India and China earning foreign exchange $20 billion each, one by saving life and another by selling arms.